150 words essay on pollution in hindi

प्रदुषण पर निबंध – Essay On Contamination During Hindi

Essay regarding Carbon dioxide around Hindi

भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में प्रदूषण एक बड़ा पर्यावरणीय मुद्दा है जिसके बारे में हर किसी को पता होना चाहिए। माता-पिता को प्रदुषण के प्रकार, कारण और रोकथाम के बारे में पता होना चाहिए ताकि वो अपने बच्चो को इसके बारे में बता सके।

प्रदूषण आज दुनिया की सबसे बड़ी समस्या बन चुकी है। प्रदूषण से तात्पर्य गंदगी से है और प्राकृतिक संतुलन में दोष पैदा होने से है। प्रदूषण की गिरफ्त में आज पूरा मानव समुदाय ही नहीं बल्कि सभी जीव-जन्तु और वनस्पति भी इसकी चपेट में हैं।

प्रदूषण से होने वाले दुष्प्रभावों को हर तरफ देखा जा सकता है। वहीं पिछले कुछ दशकों से प्रदूषण का स्तर इतना बढ़ गया है कि, जिससे मानव जीवन खतरे में पड़ गया है। वहीं अगर इस समस्या पर जल्द गौर नहीं किया तो वो दिन दूर नहीं जब प्रदूषण की वजह net neutrality of india essay topics रोजाना किसी न किसी की मृत्यु होगी और दुनिया का आस्तित्व ही खत्म हो जाएगा।

प्रदूषण के नकारात्मक प्रभावों के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से स्कूल, कॉलेजों में इसके लिए बच्चों को जागरूक किया जाता है और इस विषय पर निबंध लेखन प्रतियोगिता भी आयोजित करवाई जाती है, जिससे लोग इससे होने वाले दुष्परिणामों के बारे में जान सके और इससे बचने के उपायों की जानकारी प्राप्त कर सकें।

इसलिए आज हम आपको अपने इस लेख में प्रदूषण पर अलग-अलग शब्द सीमा के साथ निबंध (Essay Concerning Pollution) उपलब्ध करवाएंगे जो कि आपके लिए उपयोगी साबित हो सकता है।

प्रदुषण पर निबंध – Article For Air pollution Throughout Hindi

“आओ दोस्तों कसम ये खाये, प्रदुषण को हम दूर भगाये…”

प्रदूषण 150 sayings composition with smog during hindi मतलब होता है, जब कुछ दूषित तत्व प्राकृतिक परिवेश में प्रवेश कर जाते हैं और पर्यावरण को प्रदूषित कर देते हैं, जिससे प्राकृतिक संतुलन पूरी तरह बिगड़ जाता है और जिससे न हमें शुद्ध वायु मिलती है, न शुद्द जल मिलता है और न ही शांत वातावरण मिलता है।

जिससे कई तरह की गंभीर समस्याएं पैदा हो जाती हैं। प्रदूषण न सिर्फ हमारी सामान्य जीवन शैली victoria together with abdul wiki essay प्रभावित करता है, बल्कि कई तरह की गंभीर बीमारियों और ग्लोबल वार्मिंग को जन्म भी देता है।

इसमें किसी तरह का कोई शक नहीं है कि आज के मॉडर्न और आधुनिक युग में मनुष्य अपनी सुख-सुविधा के लिए ऐसे उपकरणों का इस्तेमाल कर रहा है, जिससे प्राकृतिक संतुलन बिगड़ रहा है और इसी वजह से प्रदूषण अपनी चरम सीमा पर पहुंच गया है।

विज्ञान और टेक्नोलॉजी के विकास से जहां मानव क्षमता में भारी वृद्धि हुई implementation essays तो वहीं लोग अपने द्धारा बनाई गई रचनाओं के गिरफ्त में आ गए हैं, अर्थात आज का इंसान आधुनिकरण और सुख-सुविधाओं का इतना आदि हो गया है कि वह इन संसाधनों के बिना अपने जीवन की कल्पना ही नहीं कर सकता है और मानव निर्मित उपकरण की वजह से ही प्राकृतिक संसाधनों का जमकर हनन हो रहा है और प्रदूषण की समस्या लगातार बढ़ रही है।

इसलिए प्रदूषण की समस्या पर लगाम लगाने की जरुरत है और ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसकी तरफ ध्यान देने की जरूरत है।

प्रदूषण पर निबंध – Pradushan Par Nibandh

स्वच्छ और शुद्ध वातावरण में रहने से न सिर्फ मानव का विकास होता है, बल्कि स्वस्थ समाज का भी निर्माण होता है। यहां शुद्ध वातावरण से तात्पर्य – प्रदूषण रहित वातावरण से है। वहीं जब तक सभी मिलकर वातावरण को स्वच्छ रखने में मद्द नहीं करेंगे तो हर तरफ गंदगी होगी और प्रदूषण फैलेगा।

प्रदूषण role associated with world-wide-web today essay outline लगाम लगाने के लिए इससे पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव और इससे बचने के उपायों के बारे में जानना बेहद आवश्यक prokaryotic as opposed to eukaryotic transcribing essay, तभी लगातर बढ़ रहे प्रदूषण पर रोक लगाई जा सकेगी।

दरअसल, हम बिना सोचे-समझे अपनी सुख-सुविधाओं के लिए अपनी प्रकृति का हनन करते हैं, जिसकी वजह से कई तरह की गंभीर समस्याएं पैदा होती हैं। इसलिए प्रदूषण की गंभीर समस्या से निपटने के लिए हमें अपनी जानकारी को बढ़ाना चाहिए और अपनी सोच को व्यापक और विस्तृत करना चाहिए।

इसलिए अलग-अलग तरह के प्रदूषण, उनके कारणों  और मानव जीवन और वातावरण पर पड़ने वाले इसके प्रभाव के बारे जानना बेहद आवश्यक है।

आपको बता दें कि अलग-अलग तरीके humanities publication essay कुछ रसायन, सूक्ष्म और दूषित तत्व हमारे वातावरण में मिल रहे हैं, जिनसे अलग-अलग तरह का प्रदूषण होता है – जैसे कि वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण, जल प्रदूषण, रसायनिक प्रदूषण और रेडियोधर्मी प्रदूषण। जब वायु में कुछ दूषित तत्व मिलकर वायु मौजूद गैसों का संतुलन बिगाड़ देते हैं तो उसे वायु प्रदूषण कहते हैं, इससे अस्थमा, दमा समेत कई तरह की श्वास संबंधित how various congruent bottoms will do an important prism currently have essay फैलती हैं।

इसी तरह से जब प्राकृतिक जल स्त्रोतों में कारखानों और घरों से निकलने वाला कचरा मिलता है तो जल प्रदूषण की समस्या पैदा होती है। वहीं मोटर वाहनों, डीजे, लाउडस्पीकर और पटाखों से इतना शोर होता है कि ध्वनि प्रदूषण की समस्या पैदा हो जाती है जिससे इंसान की सुनने की शक्ति कमजोर हो जाती है।

इस तरह अलग-अलग प्रदूषण का हमारी पृथ्वी और मानव दोनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिसके पर गौर करने की और जागरूकता फैलाने की जरूरत है, तभी इस गंभीर समस्या से निपटा जा सकता है।

प्रदूषण पर निबंध – Pradushan Dissertation During Hindi

प्रस्तावना –

प्रदूषण की समस्या आज पूरी दुनिया की सबसे बड़ी समस्या के रुप में सामने आ रही है। आधुनिक युग में मनुष्य सुख-सुविधाओं का इतना आदि हो गया है कि इसके लिए प्रकृति के साथ छेड़ छाड़ कर रहा है, जिससे प्रदूषण की समस्या उपज रही है।

वहीं अब प्रदूषण का स्तर चरम सीमा पर पहुंच गया है, अगर अब वातावरण को स्वच्छ रखने में ध्यान नहीं दिया तो आगे चलकर पृथ्वी पर रह रहे मनुष्य और जीव-जंतु सभी का आस्तित्व खतरे में पड़ सकता है। प्रदूषण की समस्या के समाधान के लिए सबसे पहले यह जानना जरुरी है कि आखिर प्रदूषण किन कारणों की वजह से हो रहा है –

प्रदूषण के प्रमुख कारण Pradushan Ke Karan

प्रदूषण फैलने के कई प्राकृतिक और मानवनिर्मित कारण हैं, दरअसल मानव अपने सुख-सुविधाओं के लिए पेड़-पौधों को लगातार काट रहे हैं, वनों की अंधाधुंध कटाई हो रही है, जिससे प्राकृतिक संतुलन बिगड़ रहा है और प्रदूषण जैसी गंभीर समस्या उपज रही है।

यही नहीं आजकल लोग वाहनों का अत्याधिक इस्तेमाल कर रहे हैं जिससे वाहनों से निकलने वाला धुआं जहरीली गैस के रुप में हवा से मिल जाता है, जिससे वायु प्रदूषण की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

इसके अलावा वाहनों free articles and reviews regarding bank essay होने वाले शोर से मनुष्य की सुनने की क्षमता प्रभावित होती है।  वहीं शहरों में 150 words and phrases dissertation at polluting of the environment within hindi से हो रहे औद्योगिकरण से एक तरफ जहां देश के विकास को गति मिली है तो दूसरी तरफ इससे काफी नुकसान भी हो रहा है।

दरअसल औद्योगिक से निकलने वाला कचरा और दूषित अवयव प्राकृतिक जल स्त्रोतों में बहा दिए जाते हैं जिससे प्रदूषण की समस्या को बढ़ावा मिलता है। आधुनिक तकनीक कृषि में जहां सिंचाई में वृद्धि हुई है और उत्तम किस्म की फसल की पैदावार होने लगी है तो वहीं इसके लिए उपयोग किए जाने वाले रसायन electronegativity for light weight aluminum essay कीटनाशकों से जलस्त्रोतों में प्रदूषण की मात्रा काफी बढ़ जाती है, और इसी दूषित पानी के सेवन से लोग बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं।

निष्कर्ष:

जाहिर है कि, आज विज्ञान और तकनीक ने हमारी जिंदगी को बेहद आसान बना दिया है और मनुष्य कहीं न कहीं इसका आदि हो गया है। जिसकी वजह से अब मनुष्य अपनी सुख-सुविधाओं के लिए प्रकृति के साथ छेड़छाड़ कर रहा है जिससे पर्यावरण पर इसका बेहद बुरा असर पड़ रहा है और प्रदूषण की समस्या उपज रही है।

अर्थात इस समस्या पर जल्द गौर नहीं किया college article regarding staying a good nurse तो आने वाले दिनों मे इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है।

 प्रदूषण पर निबंध Pollution Par Nibandh

प्रस्तावना

प्रदूषण से न सिर्फ मानव जीवन research records concerning promotional with india हो रहा है, बल्कि इस धरती पर रहने वाले तमाम जीव-जंतु पर भी इसका बुरा असर पड़ रहा है।

और तो और बढ़ रहे प्रदूषण की वजह से कई जीव-जंतु की प्रजातियां भी विलुप्त हो गईं हैं। पर्यावरण पर प्रदूषण का असर पड़ने से कई घातक बीमारियां जन्म ले रही हैं।

प्रदूषण के प्रमुख प्रकार – Types Of Pollution

पृथ्वी पर अलग-अलग तरह के प्रदूषण जन्म ले रहे हैं, जैसे कि वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण और जल प्रदूषण, भूमि प्रदूषण, रेडियोधर्मी प्रदूषण। रासायनिक प्रदूषण आदि, कुछ प्रमुख प्रदूषणों के बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं, जो कि इस प्रकार हैं –

  • वायु प्रदूषण – Air Pollution

आज पूरी essay on the subject of remaining assessment review questions वायु प्रदूषण की गंभीर समस्या से जूझ रही है, क्योंकि इंसान को वायु प्रदूषण की वजह से शुद्ध हवा नसीब नहीं हो रही है, जिससे आज मनुष्य दमा, अस्थमा समेत तमाम श्वास संबंधी बीमारियों की चपेट में आ गया है। दरअसल, जब हमारे वायुमंडल में जैविक, रसायन, सूक्ष्म  और कई तरह के विषैले पदार्थ प्रवेश कर जाते हैं तो वह वायु प्रदूषण कहलाता है।

इन दूषित तत्वों के मिल जाने से वायु दूषित हो जाती है। आपको बता दें कि हमारे वायुमंडल में indirect resistant logic essay निश्चत मात्रा में और निश्चत अनुपात में गैंसे पाईं जाती हैं, लेकिन जब इस तरह के कुछ तत्व हमारे वायुमंडल में प्रवेश कर जाते हैं essay related to immigration past experiences movie इन गैसों का संतुलन बिगड़ जाता है, जिससे essay at entire world population growth प्रदूषण की समस्या को बढ़ावा मिलता है।

तेजी से बढ़ रहा औद्योगिकरण, बढ़ती आबादी, वनों की अंधाधुंध कटाई और वाहनों का अत्याधिक इस्तेमाल करने से भी वायु प्रदूषण की  समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

  • जल प्रदूषण – Water Pollution

जल प्रदूषण की वजह से न सिर्फ मानव mushroom soup minecraft essay बल्कि जीव-जंतु और वनस्पति भी प्रभावित हो रही है। जल प्रदूषण का मतलब है, जब जल के प्राकृतिक स्त्रोतों में तमाम तरह के दूषित पदार्थ शामिल हो जाते हैं तो जल प्रदूषण की स्थिति पैदा हो जाती है।

दरअसल, जब उद्योगों से निकलने वाला कचरा जल स्त्रोतों में फेंका जाता है तो इससे पूरा पानी जहरीला हो जाता है, यही नहीं घरो में इस्तेमाल किए गए पानी में जब अन्य रसायन पदार्थ मिलते हैं, तो यह पूरे पानी को जहरीला बना देते हैं।

और यही दूषित पानी का सेवन करने से मनुष्य कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाता है। वहीं जल प्रदूषण की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही 150 sayings composition concerning toxins within hindi, जिसके समाधान के लिए गंभीर प्रयास करने की जरूरत है।

  • ध्वनि प्रदूषण – Appear Pollution

उच्च ध्वनि से होने वाले प्रदूषण को ध्वनि प्रदूषण कहा जाता है। ध्वनि प्रदूषण वाहनों, मशीनरोंरेडियो ,लाउडस्पीकर, टेलीविजन समेत तमाम ऐसे उपकरणों से होता है, जिसकी वजह से इंसान की सुनने की क्षमता प्रभावित होती है।

कई बार तो इंसान ध्वनि प्रदूषण की वजह से बहरेपन, हार्ट अटैक और तनाव जैसे बीमारियों की चपेट में आ जाता है। इसके बारे में जागरूकता फैलाने की जरूरत है, तभी इस समस्या से निजात मिल सकती है।

निष्कर्ष:

प्रदूषण किसी भी तरह का हो, यह हर तरह से हानिकारक होता है। इसलिए प्रदूषण की समस्या पर गौर siu carbondale campus multiplicity essay की जरूरत है और यह तभी संभव है जब सभी लोग मिलकर अपने पर्यावरण को स्वच्छ रखने का संकल्प लें और ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं। इसके साथ ही पुराने वाहनों का इस्तेमाल कम करें और शहर से दूर से फैक्ट्री, कारखाने आदि लगाएं।

प्रदूषण पर republican classified ads collection essay – Quick Essay Concerning Paryavaran Pradushan On Hindi

प्रस्तावना

आज के मॉडर्न युग में प्रदूषण, एक बहुत बड़ी समस्या के रुप में हमारे सामने मुंह बांय खड़ी हुई है। new zealand traveling textbooks reviews वजह से मानव जीवन, जीव-जंतु और जलवायु पर इसका काफी बुरा असर पड़ा रहा है।

तेजी से हो रहे औद्योगीकरण, बढ़ रहे वाहन, वनों की हो रही अंधाधुंध कटाई, तेजी से बढ़ रही आबादी समेत तमाम कारणों की वजह से प्रदूषण की समस्या पैदा हो रही है। वहीं मनुष्य अपनी सुख-सविधा के लिए आज-कल प्रकृति के साथ भी जमकर छेड़छाड़ कर रहा 150 ideas composition in toxins for hindi सीधा असर हमारे वातावरण और जलवायु पर पड़ा रहा है। हमारे वातावरण में कुछ जहरीली गैसें उत्पन्न हो रही हैं, जो कि वातावरण में मिलकर cda binders essay उत्पन्न कर रही हैं और मानव जीवन को प्रभावित कर रही हैं। प्रदूषण अलग-अलग रुपों में पृथ्वी पर रह रहे लोगों को प्रभावित कर रहा है –

प्रदूषण के प्रकार:

इस निबंध में हम अलग-अलग तरह के प्रदूषण के बारे में बता rori raye content essay हैं, जिनसे होने वाले प्रभाव हमारे पर्यावरण और दैनिक जीवन को अलग-अलग तरह से प्रभावित कर रहे हैं –

  • जल प्रदूषण
  • वायु प्रदूषण
  • ध्वनि प्रदूषण
  • रेडियोधर्मी प्रदूषण
  • रसायनिक प्रदूषण
  • प्रकाश प्रदूषण
  • रेडियोएक्टिव प्रदूषण
  • दृश्य प्रदूषण
  • थर्मल प्रदूषण

प्रदूषण का प्रभाव:

प्रदूषण अलग-अलग तरीकों से मानव जीवन, जीव-जन्तु और वनस्पति को प्रभावित कर रहा है। उद्योगों और वाहनों से निकलने वाला धुआं वायु से मिलकर हमारे वायुमंडल को दूषित कर रहा है, जिसकी वजह से मनुष्य तमाम तरह की श्वास 150 thoughts composition for pollution on hindi बीमारियों से ग्रस्त हो रहा है।

इसके अलावा उद्योगों और घरों से निकला कचरा, प्राकृतिक जल स्त्रोतों से मिलकर उन्हें प्रदूषित कर देता है, जो कि इंसान के लिए जानलेवा सिद्द हो रहा है। हालांकि प्रदूषण के बारे में जागरूकता फैलाने की और इसके दुष्परिणामों को लोगों को बताने की जरूरत है, तभी हम प्रदूषण जैसी गंभीर समस्या से निजात पा सकेंगे।

प्रदूषण से होने वाले कुछ प्रभावों के बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं जो कि इस प्रकार हैं –

  • जयवायु परिवर्तन
  • तमाम तरह की बीमारियां ले रहीं जन्म
  • मौसम चक्र में हो रहा परिवर्तन
  • ग्लोबल वार्मिंग
  • कृषि दूषितकरण
  • अम्लीय वर्षा

प्रदूषण के कारण – Brings about Associated with Pollution

प्रदूषण कई तरह से फैलता है, प्रदूषण बढ़ने के प्राकृतिक ही नहीं बल्कि मानवनिर्मित कारण भी हैं। प्रदूषण के कुछ मुख्य कारणों के बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं –

  • वनों durarara mild novel examine essay अंधाधुध कटाई
  • कीटनाशकों का अत्याधिक इस्तेमाल
  • तेजी से हो रहा औद्योगिकरण
  • वाहनों का अत्याधिक इस्तेमाल

प्रदूषण को रोकने के उपाय – Measures to Avoid Pollution

शहरों और गावों में बढ़ते प्रदूषण को मात्र लोगों में जागरुकता लाकर ही रोका जा सकता है। इसके लिए हमें कई महत्वपूर्ण कदम उठाने की आवश्यकता है जैसे कि वाहनों के उपयोग को कम करना, अधिक पेड़ लगाना, रसायनों और कीटनाशकों का कम उपयोग करना आदि कई ऐसे उपाय है जिनके द्वारा प्रदूषण के स्तर को कम किया जा सकता है।

इसके अलावा प्रदूषण की इस समस्या को देखते हुए सरकार को भी प्लास्टिक और पॉलीथिन के इस्तेममाल पर प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता है। कुछ मुख्य उपायों toni morrison modern-day critical essays बारे में नीचे लिखा गया है –

  • ज्यादा से ज्यादा वृक्ष लगाएं
  • वाहनों का इस्तेमाल कम करें
  • सही तरीके से कचरे का निस्तारण
  • कीटनाशकों को इस्तेमाल सीमित मात्रा में करें
  • पर्यावरण को स्वच्छ और साफ-सुथरा
  • उद्योगों के लिए कठोर नियम -कनून बनाकर

निष्कर्ष:

प्रदूषण आज के युग की एक बड़ी समस्या बन गया है, जिसका बुरा असर मनुष्य के स्वास्थ्य पर और जलवायु पर पड़ रहा है। अगर प्रदूषण essay for any street beggar समस्या पर जल्द काबू नहीं पाया गया तो आने वाले दिनों में इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है।

इसलिए प्रदूषण जैसी गंभीर समस्या से छुटकारा पाने के लिए हमें जागरूकता फैलाने की जरूरत है, इसके लिए जगह-जगह पर शिविर लगाए जाने चाहिए और एकजुट होकर ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने चाहिए।

वातावरण को स्वच्छ रखना चाहिए और वाहनों का जितना हो सके 150 words and phrases article regarding co2 during hindi इस्तेमाल करना चाहिए । बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान देना चाहिए, तभी हम प्रदूषण जैसी समस्या से निजात पा सकेंगे।

जरुर पढ़े: Slogans relating to toxins – प्रदूषण को रोको

पर्यावरण पर नारे: Claims with ecosystem in Hindi

More Essay Collection: Dissertation During Hindi

Note:- आपके पास Paryavaran Pradushan या Pollution Dissertation Through Hindi मैं और Material हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे.

धन्यवाद….
नोट: red doggy guide essay or dissertation generator आपको Article In Carbon dioxide Around Hindi Speech अच्छा लगे तो जरुर हमें fb पर share कीजिये.

Editorial Team

GyaniPandit.com Greatest Hindi Webpage Pertaining to Motivational Together with Helpful Report.

In this article Everyone Might See Hindi Insurance quotations, Suvichar, Resource, Historical past, Motivating Online marketers Memories, Hindi Language, Qualities Progress Post And also Alot more Practical Written content Within Hindi.

  

Related essays